Manzil shayari in Hindi | मंजिल शायरी हिंदी | shayari on Manzil

हर कोई अपने आप को सफल बनाने के लिए अपने ‘मंजिल’ की तलाश में अपनी पूरी ताकत लगा देते हैं। एक मंजिल मिला तो दूसरी मंजिल तलास करते है। अपने आप को बेहतर बनाने के लिए वह अपना जीवन सफर में झोंक देता है। इस दुनिया के रेस में हर किसी की बड़ी ख्वाहिश होती है। यह मंजिल पर शायरी आप सभी को मंजिल पाने की शायरी आपको हिम्मत देगी।

इस पोस्ट में आप सभी के लिए Manzil shayari, मंजिल शायरी, Shayari on manzil, Manzil shayari hindi, मंजिल पर शायरी, Manzil shayari in hindi, मंजिल पाने की शायरी, manzil ki talashi shayari in hindi, मंजिल शायरी हिंदी, मंजिल शायरी 2021, जीत की खातिर बस जूनून चाहिए है।

Manzil shayari

कोई भी व्यक्ति बाहर की चुनौतियों से नही हारता है,

बल्कि वह अपने अंदर की कमजोरियों से हारता है।

Manzil shayari

Koi bhi vyakti bahar ki chunautiyon se nahi haarta hai, 

Balki vah apne andar ki kamjoriyon se haarta hai.

______________________________________

रास्ते कहां ख़त्म होते हैं
ज़िंदगी के सफ़र में,
मंज़िल तो वहां है
जहां ख्वाहिशें थम जाएं।

Raaste kahaan khatm hote hain
Jindgi ke saphar men,
Manjil to vahaan hai
Jahaan khvaahishen tham jaaan.

_____________________________________

हर सफल लोगों में एक बात समान होती है,

वो हर हाल में बस अपनी मंजिल पाना चाहते हैं।

Har saphal logon men ek baat samaan hoti hai,
Vo har haal men bas ap ani manjil paana chaahte hain

______________________________________________

मंजिल शायरी

“कामयाब होने के लिए अकेले
ही आगे बढ़ना पड़ता है,
लोग तो पीछे तब आते है
जब हम कामयाब होने लगते है।
मंजिल शायरी 
Kaamyaab hone ke lia akele
Hi aage badhnaa padtaa hai,
Log to pichhe tab aate hai
Jab ham kaamyaab hone lagte hai.
___________________________________________
बड़ा सोचो, जल्दी सोचो,
सबसे आगे सोचो, क्योंकि
विचारों पर किसी का भी एकाधिकार नहीं है।
 
Bada socho, jaldi socho,
Sabse aage socho, kyonki
Vichaaron par kisi kaa bhi ekaadhikaar nahin hai.
___________________________________________

हर किसी की क्षमता और कमजोरिया अलग होती है !

इसलिए ना किसी से अपनी तुलना करें

और ना किसी के जैसा बनने की कोशिश करें..

 
Har kisi ki kshamta aur kamjoriya alag hoti hai 
Esalia na kisi se apni tulna karen
Aur na kisi ke jaisa banne ki koshish karen.
______________________________________________

Shayari on manzil

 

किसी अच्छे काम की शुरुआत करने के लिए
कोई भी वक्त बुरा नही होता है।
Shayari on manzil 
Kisi achchhe kaam ki shuruaat karne ke lia
Koi bhi vakt buraa nahi hota hai.
______________________________________________
भगवत गीता में लिखा है
इंसान उतना ही बड़ा बन सकता है,
जितना बड़ा वह सोच सकता हैं।
 
Bhagavat gita men likha hai
Ensaan utna hi bada ban sakta hai,
Jitana bada vah soch sakta hain.
______________________________________________
ज़िन्दगी ठहरती नहीं किसी मुश्किलात से,
ज़रा मंज़िल को बताओ आ रहा हूं मैं शान से।
 
Jindgi thaharti nhin kisi mushkilaat se,
Jara manjil ko btaao aa rha hun main shaan se.
______________________________________________

Manzil shayari Hindi

मंज़िल मिले ना मिले ये तो मुक़द्दर की बात है,
पर हम कोशिश भी ना करे ये तो गलत बात है।
Manzil shayari Hindi 
Manjil mile na mile ye to mukaddar ki baat hai,
Par ham koshish bhi na kare ye to galat baat hai.
______________________________________________
इंसान अगर ठान ले तो असंभव कुछ भी नहीं
असंभव शब्द का इस्तेमाल कायर करते हैं।
 
Ensaan agar thaan le to asambhav kuchh bhi nahin
Asambhav shabd ka estemaal kaayar karte hain
______________________________________________
यहाँ से चले हैं नयी मंज़िल के लिए
ये तो एक पन्ना था अभी तो पूरी किताब बाक़ी है।
 
Yahaan se chale hain nayi manjil ke lia
Ye to ek panna tha abhi to puri kitaab baaki hai
______________________________________________

मंजिल पर शायरी

चाहे लंबा हो सफ़र चाहे अजब हो डगर,

मुश्किलों से डरना क्या,

जब मुकाम पाना हो अगर !
मंजिल पर शायरी 
Chaahe lamba ho saphar chaahe ajab ho dagar,
Mushkilon se darna kya,
Jab mukaam paana ho agar.
______________________________________________
जिस दिन से चला हूं
मेरी मंज़िल पे नज़र है
आंखों ने कभी मील का पत्थर नहीं देखा
 
Jis din se chalaa hun
Meri manjil pe najar hai
Aankhon ne kabhi mil ka patthar nahin dekha.
______________________________________________
ज़िन्दगी की जानकारी रोज़ कुछ
नया जानने से मिलती है,
हार हारने से नहीं हार मानने से मिलती है।
 
Jindgi ki jaankaari roj kuchh
Naya jaanne se milti hai,
Haar haarne se nahin haar maanne se milti hai.
______________________________________________

Manzil shayari in hindi

 
कई जीत बाक़ी हैं कई हार बाक़ी हैं
अभी ज़िंदगी का सार बाक़ी है.।
Manzil shayari in Hindi 
Kayi jit baaki hain kayi haar baaki hain
Abhi jindgi ka saar baaki hai..
______________________________________________
भावनाओं में बहने से नहीं
खुशियां खुद को रोकने से मिलती है,
मंज़िलें सोचने से नहीं खोजने से मिलती है।
 
Bhaavnaaon men bahne se nahin
Khushiyaan khud ko rokne se milti hai,
Manjilen sochne se nahin khojne se milti hai.
______________________________________________
मिलना किस काम का अगर दिल ना मिले,
चलना बेकार है जो चलके मंजिल ना मिले
 
Milna kis kaam ka agar dil na mile,
Chalna bekaar hai jo chalke manjil na mile.
______________________________________________

मंजिल पाने की शायरी 

जरूरते कहा ख़तम होती है
जिंदगी के सफर में चलते ही रहना पड़ेगा
मंजिल को पाने में
मंजिल पाने की शायरी
Jarurte kahaa khtam hoti hai
Jindgi ke saphar men chalte hi rahna padega
Manjil ko paane men
______________________________________________
कई जीत बाक़ी हैं कई हार बाक़ी हैं
अभी जिंदगी का सार बाकी है,
यहाँ से चले हैं नयी मंजिल के लिए ये
तो एक पन्ना था अभी तो पूरी किताब बाकी है
 
Kayi jit baaki hain kayi haar baaki hain
Abhi jindgi ka saar baaki hai,
Yahaan se chale hain nayi manjil ke lia ye
To ek panna tha abhi to puri kitaab baaki hai.
______________________________________________
सपने, बिना परिश्रम किये
नींद में मिलते है..
मंजिल, बिना नींद
की परिश्रम से मिलती हैं।
 
Sapne, bina parishram kiye
Nind men milte hai..
Manjil, bina nind
Ki parishram se milti hai.
______________________________________________

Manzil ki talashi shayari in Hindi

दुनिया को अक्सर वो लोग बदल देते हैं

जिन्हे दुनिया कुछ करने लायक नहीं समझती
Manzil ki talashi shayari in Hindi 
Duniya ko aksar vo log badal dete hain
Jinhe duniya kuchh karne laayak nahin samajhti.
______________________________________________
मेहनत कर भूखे पेट सो लेना मंज़ूर है मुझे,
ये बैठ कर खाना मुझे हज़म नहीं होगा।
 
Mehanat kar bhukhe pet so lena manjur hai mujhe,
Ye baith kar khana mujhe hajam nahin hoga.
______________________________________________
अगर पाना है मंज़िल तो
अपना रहनुमा खुद बनो,
वो अक्सर भटक जाते हैं
जिन्हें सहारा मिल जाता है।
 
Agar paana hai manjil to
Apana rahanuma khud bano,
Vo aksar bhatak jaate hain
Jinhen sahaara mil jaata hai.
______________________________________________

मंजिल शायरी हिंदी

अगर किसी चीज की चाहत हो 

और ना मिले तो समझ लेना 

की कुछ और लिखा है तेरे तकदीर में। 

मंजिल शायरी हिंदी
Agar kisi chij ki chaahat ho 
Aur na mile to samajh lena
Ki kuchh aur likha hai tere takdir men.
______________________________________________
मत बैठ आशियाँ में परों को समेट कर,
कर हौसला खुली फिजाओं में उड़ान का।
 
Mat baith aashiyaan men paron ko samet kar,
Kar hausla khuli phijaaon men udaan ka.
______________________________________________
दिल बिन बताएं मुझे ले चला कहीं,
जहाँ तू मुस्कुराएँ मेरी मंजिल वहीं
 
Dil bin bataaan mujhe le chala kahin,
Jahaan tu muskuraaan meri manjil vahin.
______________________________________________

मंजिल शायरी 2021

मंजिल उनको मिलती हैं

जिनके सपनो में जान होती हैं

सिर्फ पंखों से कुछ नहीं होता

हौसलों से उड़ान होती हैं 

मंजिल शायरी 2021 
Manjil unko milti hain
Jinke sapno men jaan hoti hain
Sirph pankhon se kuchh nahin hota
Hauslon se udaan hoti hain.
______________________________________________
सपनों की मंजिल पास नहीं होती,
जिन्दगी हर पल उदास नहीं होती,
ख़ुदा पर यकीन रखना मेरे दोस्त,
कभी-कभी वो भी मिल जाता है
जिसकी आस नहीं होती।
 
Sapnon ki manjil paas nahin hoti,
Jindgi har pal udaas nahin hoti,
Khuda par yakin rakhna mere dost,
Kabhi-kabhi vo bhi mil jaata hai
Jiski aas nahin hoti.
______________________________________________
शायद यही ज़िंदगी का इम्तिहान होता है,
हर एक शख्स किसी का गुलाम होता है,
कोई ढूढ़ता है ज़िंदगी भर मंज़िलों को,
कोई पाकर मंज़िलों को भी बेमुकाम होता है।
 
Shaayad yahi jindgi ka emtihaan hota hai,
Har ek shakhs kisi ka gulaam hota hai,
Koi dhudhta hai jindgi bhar manjilon ko,
Koi paakar manjilon ko bhi bemukaam hota hai
______________________________________________

जीत की खातिर बस जूनून चाहिए

जीत की खातिर बस जूनून चाहिए;
जिसमे उबाल हो ऐसा खून चाहिए;
ये आसमां भी आयेगा ज़मीं पर;
बस इरादों में जीत की गूंज चाहिए।
जीत की खातिर बस जूनून चाहिए 
Jit ki khaatir bas junun chaahia;
Jisme ubaal ho aisa khun chaahia;
Ye aasmaan bhi aayega jmin par;
Bas eraadon men jit ki gunj chaahia
______________________________________________
कोशिश नाकाम हुईं तो क्या
जीद तो मंजिल पाने की है
मूसीबते राहों में बिखरी तो क्या
बात शिद्दत से मुकाम चाहने की है
 
Koshish naakaam huin to kya
Jid to manjil paane ki hai
Musibte raahon men bikhri to kya
Baat ashiddat se mukaam chaahne ki hai
______________________________________________
यूं ही नहीं मिलती मंजिलें
एक जुनून सा दिल में जगाना होता है
पूछा चिड़िया से कैसे बनाया आशियाना
तो बोली भरनी पड़ती है उड़ान
बार-बार तिनका-तिनका उठाना होता है।
 
Yun hi nahin milti manjilen
Ek junun sa dil men jagaana hota hai
Puchha chidiya se kaise banaaya aashiyana
To boli bharni padti hai udaan
Baar-baar tinka-tinka uthaana hota hai.
______________________________________________
Manzil shayari आप लोगों को कैसे लगी आप लोग चैट में जरूर लिखे। मंजिल शायरी, Shayari on manzilमंजिल पर शायरी को शेयर जरूर करें।

2 thoughts on “Manzil shayari in Hindi | मंजिल शायरी हिंदी | shayari on Manzil”

Leave a Comment

Slot Gacor

Sbobet

Slot Gacor Terbaru

https://crackthespine.com/wp-includes/slot-gacor/

>

https://lapetitebergerie.ca/wp-includes/slot-gacor/

daftar sbobet

sbobet

https://hightidekinsale.com/wp-includes/sbobet/

https://advantagehomecare.com/wp-includes/sbobet/

https://micg-adventist.org/wp-includes/slot-gacor/

http://nvzprd-agentmanifest.ivanticloud.com/

daftar sbobet

https://brentfordgymnasticsclub.com/wp-includes/sbobet/

https://jenniferallenlaw.com/wp-includes/sbobet/

https://phuonghoangschool.com/wp-includes/